Skip to main content

बे-लगाम होता लोकतंत्र का चौथा स्तंभ


29 जुन को प्रधानमंत्री की प्रिंट मिडिया के चुनिंदा सम्पादकों के साथ हुई बैठक में डॉ मनमोहन सिंह ने एक नए विषय पर चिंता व्यक्त की, कि देश मे मीडिया (कुछ को छोड़कर) कार्यपालिका और न्यायपालिका की भूमिका निभाने लगा हैं जो किसी भी लोकतांत्रिक देश के लिए ठीक नहीं हैं। अगले दिन दिल्ली से छपने वाले कुछ समाचार पत्रों ने प्रधानमंत्री के इस ब्यान को हेडलाइन के साथ प्रकाशित किया, जबकि इका दुका समाचार चैनल ने इस ख़बर को अपनी हैडलाइन के लायक समझा। आम बोलचाल की भाषा में कहें तो ये बात ख़बर के लायक थी ही नहीं।
मीडिया भी समाज का अंग हैं यानी जिस तरह समाज में विभिन्न विचारधारा के लोग होते है ठीक उसी तर्ज़ पर मीडिया हाउस हैं। का़यदे से मीडिया स्वतंत्र तंत्र हैं यानी सरकार की तरह , जो सवेंधानिक ढांचे पर काम करती हैं और किसी वर्ग विशेष से पक्षपात नहीं कर सकती और सरकार के प्रहरी के रुप में विपक्ष हैं । जबकि मीडिया इन सबका माध्यम हैं जो हर किसी के विचार, जनभावनाओ आदि के लिए स्वतंत्र मंच हैं। धीरे धीरे ये मंच प्रायोजित होने लगा हैं और जो लोग इस मंच के प्रायोजक हैं उनकी भाषा हैं सिर्फ़ मुनाफा। और इसी मुनाफ़े की चितां प्रधानमंत्री को हैं। हाल ही कि कुछ घटनाओ पर मीडिया का रुख़ अस्पष्ट था पल मे अन्ना हज़ारे और बाबा रामदेव हीरो बन गए । अन्ना हज़ारे और बाबा रामदेव की मांगे जायज है या नहीं , बल्कि सवाल है कि लोकपाल , भष्ट्राचार, काले धन के मुद्दों को ज्यादातर मिडिया हाउस ने इससे पहले इतनी संजिदगी से क्यों नहीं लिया ? ख़ासकर इलेक्ट्रानिक मिडिया ने, क्योंकि इलेक्ट्रानिक मिडिया का प्रभाव व्यापक हैं। दरअसल मीडिया उस चाक की छड़ी की तरह होता जा रहा हैं जो सिर्फ़ बाहरी शक्ति द्वारा संचालित होता हैं। जिस तरह कुम्भकार छड़ी से चाक को घुमा कर उसे साइड रख देता हैं और घुमते हुए चाक को कब रोकना हैं ये कुम्भकार पर निर्भर हैं ।किसी भी उपकर्म, सार्वजनिक निकाय या सरकार की मंशा को भांपकर होने वाली सम्भांवित हानि को रोकना मीडिया का उद्देश्य होता है न कि सरकार के कार्यों में दख़ल अनदाजी करना यानी सही या ग़लत का फैसला करना। सरकार के फैसलो पर चर्चा, विवेचना की जा सकती हैं ।
 पिछली यूपीए सरकार के विश्वास मत के दौरान एक समाचार चैनल ने स्टिंग आपरेशन का दावा किया जो बाद में प्रसारित नहीं हुआ, नाराज़ होकर बीजेपी ने उस चैनल का बॉयकाट किया, यानी चैनल किसी प्रार्टी का मंच हैं। कुछ पत्रकार कॉरपोरेट व सरकार के मध्यस्थ बने हुए हैं। चुनाव के समय तो सौदेबाज़ी चरम सीमा में पहुँच जाती हैं। इन सबके बावजुद ऐसे मीडिया हाऊस पर किसी भी तरह की कार्यवाही नहीं होती।
ब्रिटेन के 168 साल पुराने अखबार न्यूज ऑफ द वर्ल्ड पर मोबाइल फोन हैक करने का आरोप लगा , जिसके चलते न्यूज इंटरनेशनल ग्रुप के चेयरमैन जेम्स मडरेक ने अखबार को बंद करने का फैसला किया हैं इसी जेम्स मडरेक की मजबुरी कहे या रणनीति, जो भी हो एक बात साफ़ हैं कि मीडिया का व्यवसाय ठीक किसी टीचर (अध्यापक) के समान हैं अगर किसी पर एक बार दाग लग जाए तो विश्वनीयता का़यम नहीं रहती।
जब नागरिकों के लिए आचार संहिता हो सकती हैं तो मिडिया के लिए भी दिशा निर्देश अनिवार्य होने चाहिए।
Post a Comment

Popular posts from this blog

वर्तमान राजनीति में मैकियावेली

निकोलो मैकियावेली इटलीकाराजनयिकएवंराजनैतिक दार्शनिक, संगीतज्ञ, कवि एवं नाटककार था।पुनर्जागरणकाल के इटली का वह एक प्रमुख व्यक्तित्व था। वहफ्लोरेंसरिपब्लिकका कर्मचारी था। मैकियावेली की ख्याति उसकी रचनाद प्रिंसके कारण है जो कि व्यावहारिक राजनीति का महान ग्रन्थ स्वीकार किया जाता है। मैकियावेली के विचारों की प्रासगिकता आज के दौर में भी उतनी ही हैं जितनी कि युरोप में पुनर्जागरण काल में थी। भारत की राजनीति व्यवस्था संधीय (फेडरल) ढाँचे पर टिकी हैं यानि भारत राज्यों का संघ हैं। सवा सौ करोड़ से भी ज्यादा की आबादी वाले देश में औसतन हर 50 किलोमीटर पर भाषा की विविधता देखनें को मिल जाती हैं। आजादी के बाद से भारत 90 के दशक तक अपनें औधोगिक उत्पादन व निर्यात बढ़ानें पर दे रहा था और इसी 90 के दशक के बाद देश में एक नए बाजार व्यवस्था कि शुरुआत हुई जिसे वर्तमान में निजीकरण की संज्ञा दी जाती हैं। देश आगामी साल की दुसरी तिमाही में 16वी लोकसभा के लिए अपनें मताधिकार का प्रयोग करनें जा रहा हैं । आज देश में हर 10 में से 4 के करीब 30 वर्ष के युवा हैं जो आज भी शैक्षिक योग्यता में अपनें आप को तराशनें में लगा हैं ज…

प्रमाणिकता के लिए कितना जायज हैं लिंग प्ररीक्षण

लॉरेनॉ रेक्स केमरोन, रेयान कई ऐसे नाम है जिन्होनें कुदरत को चुनौती दी। जन्म से ये लोग स्त्री लिंग के साथ पैदा हुए जो बाद में जेन्डर ट्रांस के जरीए पुरुष बनें। लॉरेना रेक्स आज पेशेवर रुप से फोटोग्राफर हैं । एंड्रियास क्रिगर जन्म से पुरुष थें जिन्हे महिला एथेलिट के रुप में जर्मनी के लिए कई प्रतिस्पधाए खेली। लॉरेनॉ रेक्स केमरोन नें फिमेंल सिम्प्टम के बावजुद अपने आप को पुरुष के लिहाज से जिने के लायक बनाया । भारत की पिंकी प्रमानिक का उदाहरण अलग हैं। पश्चिमी बंगाल के पुरलिया में जन्मी पिंकी पेशेवर धावक हैं जिसने 2006 के एशियन खेलों में स्वर्ण व 2006 के ही कामनवेल्थ खेलों मे रजत पद से देश का गौरव बढाया हैं। इसके अलावा कई उपलबधिया उनकें नाम है। 14 जुन 2012 को पिंकी की महिला मित्र नें यह आरोप लगाकर सनसनी मचा दी की पिंकी पुरुष हैं व उसनें उसके साथ शारारिक संबध बनाए हैं। अगले दिन पुलिस पिंकी को गिरफ्तार कर 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में ले लेती हैं जहां उसका डीएनए टेस्ट के लिए सैम्पल भी लिए गए। इसी बीच पिंकी का एक एमएमएस सोशल साइटस, युट्युब पर आ जाता हैं जिसमें पिंकी के सेक्स परीक्षण संबधी अंगों …

सुंदर और अमीर विरासत हैं भारतीय संस्कृति

भारतीयसंस्कृति विभिन्न संस्कृतियों, अपने पड़ोसियों की परंपराओं और अपने स्वयं की प्राचीन विरासत है, जिसमें बौद्ध धर्म , वैदिक युग, स्वर्ण युग, मुस्लिम विजय अभियान और यूरोपीय उपनिवेश की स्थापना , विकसित सिंधु घाटी सभ्यता आदि का मिश्रण है. भारतीय संस्कृति में विभिन्न संस्कृतियों जो बहुत अनोखी है और अपने स्वयं के एक मूल्य है एक महान मिश्रण को दर्शाती है. भारत के सांस्कृतिक प्रथाओं, भाषा, सीमा, परंपराओं और हिंदू धर्म, जैन धर्म, बौद्ध धर्म, और सिख धर्म के रूप में धार्मिक प्रणाली की विविधता को दर्शाती है. विभिन्न समृद्ध संस्कृतियों का अनूठा मिश्रण एक महान विस्तार के लिए दुनिया के अन्य भागों को प्रभावित किया है. भारत में बोली जाने वाली भाषाओं की एक संख्या उसके विविध संस्कृति को जोड़ने का काम करती है. वर्तमान में भारत में 415 के करीब भाषा है, लेकिन भारतीय संविधान में हिन्दी के प्रयोग और अंग्रेजी संचार के दो आधिकारिक भाषाओं में संघ सरकार के लिए की घोषणा की है. व्यक्तिगत राज्य के आंतरिक संचार के अपने स्वयं के राज्य की भाषा में कर रहे हैं. भारत में दो प्रमुख भाषाई परिवारों इंडो - आर्यन , जो उत्तरी…