Skip to main content

राजनीती में नई पीढी

कांग्रेस के संकटमोचक श्री पर्णवमुखर्जी का ताज़ा बयान कि राहुल गाँधी अगले प्रधानमंत्री हो सकते है ये कोई नई बात् नही लगती क्योकी इससे पहले दिग्विजय सिंह और अर्जुन सिंह भी इस बात को दोहरा चुके है विपक्ष इसे परम्परा से जोडेगा लेकिन आज देश की हर पार्टी का कमोबेश यही हाल है हर पार्टी परिवारवाद से आलिंग है लेकिन नई पीढी कि इस कंपनी से कुछ उम्मीद कि जा सकती है राहुल , जितिन प्रसाद , अखिलेश यादव,सचिन पाइलेट, ऊमर अब्दुला आदि कुछ उधाहरण सामने है।

ऊमर अब्दुला को कमान सोंप इसका आगाज़ भी हो चुका है। नई पीढी नई बुनियाद पर काम करेगी। पर क्या आवाम राहुल गाँधी को स्वीकार करेगी , उस स्थिति में जब उनके सामने हिंदूवादी विचारधारा के लाल कृषण आडवानी होंगे

जारी है ...............................................

Post a Comment

Popular posts from this blog

वर्तमान राजनीति में मैकियावेली

निकोलो मैकियावेली इटलीकाराजनयिकएवंराजनैतिक दार्शनिक, संगीतज्ञ, कवि एवं नाटककार था।पुनर्जागरणकाल के इटली का वह एक प्रमुख व्यक्तित्व था। वहफ्लोरेंसरिपब्लिकका कर्मचारी था। मैकियावेली की ख्याति उसकी रचनाद प्रिंसके कारण है जो कि व्यावहारिक राजनीति का महान ग्रन्थ स्वीकार किया जाता है। मैकियावेली के विचारों की प्रासगिकता आज के दौर में भी उतनी ही हैं जितनी कि युरोप में पुनर्जागरण काल में थी। भारत की राजनीति व्यवस्था संधीय (फेडरल) ढाँचे पर टिकी हैं यानि भारत राज्यों का संघ हैं। सवा सौ करोड़ से भी ज्यादा की आबादी वाले देश में औसतन हर 50 किलोमीटर पर भाषा की विविधता देखनें को मिल जाती हैं। आजादी के बाद से भारत 90 के दशक तक अपनें औधोगिक उत्पादन व निर्यात बढ़ानें पर दे रहा था और इसी 90 के दशक के बाद देश में एक नए बाजार व्यवस्था कि शुरुआत हुई जिसे वर्तमान में निजीकरण की संज्ञा दी जाती हैं। देश आगामी साल की दुसरी तिमाही में 16वी लोकसभा के लिए अपनें मताधिकार का प्रयोग करनें जा रहा हैं । आज देश में हर 10 में से 4 के करीब 30 वर्ष के युवा हैं जो आज भी शैक्षिक योग्यता में अपनें आप को तराशनें में लगा हैं ज…

प्रमाणिकता के लिए कितना जायज हैं लिंग प्ररीक्षण

लॉरेनॉ रेक्स केमरोन, रेयान कई ऐसे नाम है जिन्होनें कुदरत को चुनौती दी। जन्म से ये लोग स्त्री लिंग के साथ पैदा हुए जो बाद में जेन्डर ट्रांस के जरीए पुरुष बनें। लॉरेना रेक्स आज पेशेवर रुप से फोटोग्राफर हैं । एंड्रियास क्रिगर जन्म से पुरुष थें जिन्हे महिला एथेलिट के रुप में जर्मनी के लिए कई प्रतिस्पधाए खेली। लॉरेनॉ रेक्स केमरोन नें फिमेंल सिम्प्टम के बावजुद अपने आप को पुरुष के लिहाज से जिने के लायक बनाया । भारत की पिंकी प्रमानिक का उदाहरण अलग हैं। पश्चिमी बंगाल के पुरलिया में जन्मी पिंकी पेशेवर धावक हैं जिसने 2006 के एशियन खेलों में स्वर्ण व 2006 के ही कामनवेल्थ खेलों मे रजत पद से देश का गौरव बढाया हैं। इसके अलावा कई उपलबधिया उनकें नाम है। 14 जुन 2012 को पिंकी की महिला मित्र नें यह आरोप लगाकर सनसनी मचा दी की पिंकी पुरुष हैं व उसनें उसके साथ शारारिक संबध बनाए हैं। अगले दिन पुलिस पिंकी को गिरफ्तार कर 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में ले लेती हैं जहां उसका डीएनए टेस्ट के लिए सैम्पल भी लिए गए। इसी बीच पिंकी का एक एमएमएस सोशल साइटस, युट्युब पर आ जाता हैं जिसमें पिंकी के सेक्स परीक्षण संबधी अंगों …

सुंदर और अमीर विरासत हैं भारतीय संस्कृति

भारतीयसंस्कृति विभिन्न संस्कृतियों, अपने पड़ोसियों की परंपराओं और अपने स्वयं की प्राचीन विरासत है, जिसमें बौद्ध धर्म , वैदिक युग, स्वर्ण युग, मुस्लिम विजय अभियान और यूरोपीय उपनिवेश की स्थापना , विकसित सिंधु घाटी सभ्यता आदि का मिश्रण है. भारतीय संस्कृति में विभिन्न संस्कृतियों जो बहुत अनोखी है और अपने स्वयं के एक मूल्य है एक महान मिश्रण को दर्शाती है. भारत के सांस्कृतिक प्रथाओं, भाषा, सीमा, परंपराओं और हिंदू धर्म, जैन धर्म, बौद्ध धर्म, और सिख धर्म के रूप में धार्मिक प्रणाली की विविधता को दर्शाती है. विभिन्न समृद्ध संस्कृतियों का अनूठा मिश्रण एक महान विस्तार के लिए दुनिया के अन्य भागों को प्रभावित किया है. भारत में बोली जाने वाली भाषाओं की एक संख्या उसके विविध संस्कृति को जोड़ने का काम करती है. वर्तमान में भारत में 415 के करीब भाषा है, लेकिन भारतीय संविधान में हिन्दी के प्रयोग और अंग्रेजी संचार के दो आधिकारिक भाषाओं में संघ सरकार के लिए की घोषणा की है. व्यक्तिगत राज्य के आंतरिक संचार के अपने स्वयं के राज्य की भाषा में कर रहे हैं. भारत में दो प्रमुख भाषाई परिवारों इंडो - आर्यन , जो उत्तरी…