Skip to main content

हमें भारतीय होने पर गर्व हैं ..........

मेरिका में वहां के राष्ट्रपति पर उनकी नागरिकता पर जब सवाल उठाया गया , या 9/11 की बरसी पर कुरान शरीफ जलाने की एक पादरी द्वारा दी गई धमकी ये हाल ही में घटी वो घटनाये हैं जो पूरी दुनिया के मिडिया की सुर्खिया बनी अमेरिकी प्रशासन भी इस तरह की भ्रामक बातों से जेसे तेसे बहार निकले में उलझता रहा, अगर भारत की बात की जाये तो हमारे यहाँ लगभग 120 करोड़ की आबादी वाले देश में इस तरह की घटनाये चलती आ रही हैं लेकिन ये घटनाये हमारी राट्रीय अस्मिता पर कोई आंच नही आने देती ये वही सबसे बड़ा फर्क जो हमें दुनिया के ग्लोब पर धर्म-निरपेक्ष की छवि प्रदान करता हैं | यानि जितना सयंम हम भारतीयों में हैं वो पूरी दुनिया के सामने एक मिशाल हैं और हमें भारतीय होने का गर्व प्रदान करती हैं|

भारत के तीन बड़े नेता जिनमे प्रधानमंत्री डा. मनमोहन सिंह का जन्म पाकिस्तान में हुआ , श्री लाल कृष्ण आडवानी भी पाकिस्तान में जन्मे है व यु.पी.ए. अध्यक्षा श्रीमती सोनिया गाँधी इटालियन मूल की हैं, लेकिन हम भारतवाशियो ने कभी इन्हे रास्ट्रीय अस्मिता को हानी पहुचने वाला नही माना,चुकी हमारा संविधान कभी इसकी इजाज़त नही देता , जो हमें भारतीय होने का गर्व प्रदान करता हैं |

भारत विकासशील देशो की कतार में उन देशो में आगे हैं जिन्होंने दुसरे देशो को आर्थिक सहायता की हैं

भारत सरकार ने आठ वर्ष में विभिन्न देशों को लगभग 130 अरब रूपए की सहायता प्रदान की है। भले ही भारत सरकार विकास कार्यो के लिए विश्व बैंक व धनी देशों से धन लेती रहती है, लेकिन उसने अपने पड़ोसी देशों को भी दिल खोल कर मदद दी है। जो देश की बढती आर्थिक मजबूती का प्रतिक हैं

भारत की ओर से सर्वाघिक मदद प्राप्त करने वाले देशों में शीर्ष पर भूटान है। भूटान को आठ वर्ष में 70.14 अरब रूपए की मदद दी गई, जिसके तहत वहां ताला जल विद्युत परियोजना, खूंचू जल विद्युत परियोजना, पूनारसंगचू जल विद्युत परियोजना के अलावा दूंगसम सीमेंट परियोजना का विकास किया गया। पिछले तीन वर्षो में बांग्लादेश को लगभग 1.74 अरब रूपए का ऋण दिया गया। दुनिया के कुछ अन्य विकासशील देशों को आठ वर्ष में 21.49 अरब रूपए और कुछ अफ्रीकी देशों को 5.42 अरब रूपए प्रदान किए गए।

अफगानिस्तान को वित्त वर्ष 2007-08 से आर्थिक मदद शुरू की गई और इस वर्ष 4.34 अरब रूपए का आवंटन किया गया। इसके तहत काबुल-खुमरी डबल सर्किट ट्रांसमिशन लाइन के लिए विशेष तौर पर वित्त पोषण किया गया। 2008-09 में अफगानिस्तान को 4.18 अरब रूपए ,2009-10 में 2.87 अरब रूपए की मदद प्रदान की गई जिसके तहत दोस्त और चरख इलाके में दो विद्युत पारेषण केंद्र स्थापित करने के कार्यक्रम को रखा गया।

देश का उत्तरी भाग जो धरती का स्वर्ग है यानि कश्मीर , वो कुछ अरसे से झुलस रहा हैं, हालाँकि सरकार व सर्वदलीय राजनेतिक पार्टिया इसे सुलझाने में लगी हैं, या दक्षिणी -पूर्वोतर में नक्सली समस्या ....जो देश के सामने बड़ी चुनोती हैं……………|उम्मीद हैं की निकट भविष्य में हम इनसे भी बाहर निकल आयेगे | आने वाला समय हम युवाओ का हैं |पूरी दुनिया में सबसे ज्यादा युवा आबादी भारत की हैं, और इतनी प्रतिभावान हैं की अमेरिकी राष्ट्रपति भी भयभीत होकर अमेरिकियो को नसीहत देते हैं अपने आप को शिक्षा में दक्ष बनाओ ,वरना भारतीय और चीनी तुम्हारी जगह हथिया लेगे |

देश की आर्थिक विकास दर 2009 -2010 में सकल घरेलु उत्पाद की वृधि 7 .2 % की उम्मीद हैं , वही उद्योगिक विकास दर 8.2 % ,सेवा क्षेत्र 8.7% बढे हैं | हलाकि देश का आबादी आधारभूत ढांचा कृषि की विकास दर में -0.2 % की मामूली गिरावट आई है |

लेकिन खाद्यानो की कमी देश में बिलकुल भी नही हैं पर PDS सिस्टम की खामी के कारण अनेक परिवार आज भी मानक मात्रा में अन्न नही ले पा रहे हैं |जो कही न कहीं हमारी सफलता की हुनकर को कम करती हैं |

चूँकि अब देश में एशियाड गेम के बाद सबसे बड़े खेल आयोजन का समय हैं ,हालाँकि हमारे नेता , नोकर-शाहों की वजह से देश को बड़ी फजीयत झेलनी पड़ी हैं , जब माननीय अटल बिहारी वाजपेयी की सरकार में इस आयोजन को हरी झंडी मिली तब इसका बजट महज 767 करोड़ था , अब संसद में कुछ सदस्यों द्वारा इसका अनुमानित व्यय 1 लाख करोड़ तक बताया जाता हैं| इतनी बड़ी धन राशी का व्यय होना अपने आप में प्रश्न चिन्ह हैं ? अब सवाल उठाने से कोई तर्क नही बनता ,या तो आयोजन से पहले मीडिया,सरकार,या स्वयसेवी संघटन पहले कोई आवाज उठाते, अब वक्त पर शेर आया ...शेर आया चिलाने पर न तो मचान बन पायेगा और न ही शेर का शिकार हो पायेगा , अब तो शेर से दूर भागने में ही भलाई हैं | हालाँकि कुछ लोग इन खेलो का विरोध भी कर रहे है और उनका ये विरोध शायद जायज भी है पर जो भी हमारे मेहमान खिलाडी,फोरेन डेलिगेशन के सदस्य है हम सभी हमारी वर्षो पुरानी "अतिथि देवो भव:" की परम्परा का निर्वहन करते हुआ उनका तहदिल से स्वागत करने को बेताब हैं|

इन विवादों पर चुप रहना हमारी कमजोरी नही हैं पर उम्मीद हैं की हमारी जागरूकता ही हमारा सुनहरा भविष्य निर्धारित करती हैं.......इसलिए हर क्षेत्र में हमारा विकास का आंकड़ा आज पूरी दुनिया में हमें भारतीय होने का अभिमान प्रदान करता हैं |

Post a Comment

Popular posts from this blog

वर्तमान राजनीति में मैकियावेली

निकोलो मैकियावेली इटलीकाराजनयिकएवंराजनैतिक दार्शनिक, संगीतज्ञ, कवि एवं नाटककार था।पुनर्जागरणकाल के इटली का वह एक प्रमुख व्यक्तित्व था। वहफ्लोरेंसरिपब्लिकका कर्मचारी था। मैकियावेली की ख्याति उसकी रचनाद प्रिंसके कारण है जो कि व्यावहारिक राजनीति का महान ग्रन्थ स्वीकार किया जाता है। मैकियावेली के विचारों की प्रासगिकता आज के दौर में भी उतनी ही हैं जितनी कि युरोप में पुनर्जागरण काल में थी। भारत की राजनीति व्यवस्था संधीय (फेडरल) ढाँचे पर टिकी हैं यानि भारत राज्यों का संघ हैं। सवा सौ करोड़ से भी ज्यादा की आबादी वाले देश में औसतन हर 50 किलोमीटर पर भाषा की विविधता देखनें को मिल जाती हैं। आजादी के बाद से भारत 90 के दशक तक अपनें औधोगिक उत्पादन व निर्यात बढ़ानें पर दे रहा था और इसी 90 के दशक के बाद देश में एक नए बाजार व्यवस्था कि शुरुआत हुई जिसे वर्तमान में निजीकरण की संज्ञा दी जाती हैं। देश आगामी साल की दुसरी तिमाही में 16वी लोकसभा के लिए अपनें मताधिकार का प्रयोग करनें जा रहा हैं । आज देश में हर 10 में से 4 के करीब 30 वर्ष के युवा हैं जो आज भी शैक्षिक योग्यता में अपनें आप को तराशनें में लगा हैं ज…

प्रमाणिकता के लिए कितना जायज हैं लिंग प्ररीक्षण

लॉरेनॉ रेक्स केमरोन, रेयान कई ऐसे नाम है जिन्होनें कुदरत को चुनौती दी। जन्म से ये लोग स्त्री लिंग के साथ पैदा हुए जो बाद में जेन्डर ट्रांस के जरीए पुरुष बनें। लॉरेना रेक्स आज पेशेवर रुप से फोटोग्राफर हैं । एंड्रियास क्रिगर जन्म से पुरुष थें जिन्हे महिला एथेलिट के रुप में जर्मनी के लिए कई प्रतिस्पधाए खेली। लॉरेनॉ रेक्स केमरोन नें फिमेंल सिम्प्टम के बावजुद अपने आप को पुरुष के लिहाज से जिने के लायक बनाया । भारत की पिंकी प्रमानिक का उदाहरण अलग हैं। पश्चिमी बंगाल के पुरलिया में जन्मी पिंकी पेशेवर धावक हैं जिसने 2006 के एशियन खेलों में स्वर्ण व 2006 के ही कामनवेल्थ खेलों मे रजत पद से देश का गौरव बढाया हैं। इसके अलावा कई उपलबधिया उनकें नाम है। 14 जुन 2012 को पिंकी की महिला मित्र नें यह आरोप लगाकर सनसनी मचा दी की पिंकी पुरुष हैं व उसनें उसके साथ शारारिक संबध बनाए हैं। अगले दिन पुलिस पिंकी को गिरफ्तार कर 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में ले लेती हैं जहां उसका डीएनए टेस्ट के लिए सैम्पल भी लिए गए। इसी बीच पिंकी का एक एमएमएस सोशल साइटस, युट्युब पर आ जाता हैं जिसमें पिंकी के सेक्स परीक्षण संबधी अंगों …

सुंदर और अमीर विरासत हैं भारतीय संस्कृति

भारतीयसंस्कृति विभिन्न संस्कृतियों, अपने पड़ोसियों की परंपराओं और अपने स्वयं की प्राचीन विरासत है, जिसमें बौद्ध धर्म , वैदिक युग, स्वर्ण युग, मुस्लिम विजय अभियान और यूरोपीय उपनिवेश की स्थापना , विकसित सिंधु घाटी सभ्यता आदि का मिश्रण है. भारतीय संस्कृति में विभिन्न संस्कृतियों जो बहुत अनोखी है और अपने स्वयं के एक मूल्य है एक महान मिश्रण को दर्शाती है. भारत के सांस्कृतिक प्रथाओं, भाषा, सीमा, परंपराओं और हिंदू धर्म, जैन धर्म, बौद्ध धर्म, और सिख धर्म के रूप में धार्मिक प्रणाली की विविधता को दर्शाती है. विभिन्न समृद्ध संस्कृतियों का अनूठा मिश्रण एक महान विस्तार के लिए दुनिया के अन्य भागों को प्रभावित किया है. भारत में बोली जाने वाली भाषाओं की एक संख्या उसके विविध संस्कृति को जोड़ने का काम करती है. वर्तमान में भारत में 415 के करीब भाषा है, लेकिन भारतीय संविधान में हिन्दी के प्रयोग और अंग्रेजी संचार के दो आधिकारिक भाषाओं में संघ सरकार के लिए की घोषणा की है. व्यक्तिगत राज्य के आंतरिक संचार के अपने स्वयं के राज्य की भाषा में कर रहे हैं. भारत में दो प्रमुख भाषाई परिवारों इंडो - आर्यन , जो उत्तरी…